आकर्षण वशीकरण मंत्र

आकर्षण वशीकरण मंत्र

आकर्षण वशीकरण मंत्र

आकर्षण वशीकरण मंत्र  – आपके जीवन में यदि समस्याओं की अधिकता हो रही है और आपको ढूँढनें पर भी इसका कारण नहीं मिल रहा, तो हो सकता है कि इसके पीछे आपके ग्रहों का आपके अनुकूल न होना हो। ज्योतिषशास्त्र का सिद्धान्त है कि जो ग्रह शुभ फल नहीं दे रहे हैं उनका शुभ फल पाने के लिए उन्हें आकर्षित करके अपने लिए शुभ बनाने का प्रयत्न करना चाहिए। इसके लिए ज्योतिषशास्त्र में अनेक उपाय हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार प्रेम और सेक्स का कारक शुक्र ग्रह है और प्रेम के देवता कामदेव हैं।

आकर्षण वशीकरण मंत्र
आकर्षण वशीकरण मंत्र

बहुत से ज्योतिषियों का मानना है कि, यदि व्यक्ति किसी को अपनी ओर आकर्षित करना चाहता है तो उसे शुक्र एवं कामदेव को प्रसन्न करना चाहिए। इसके लिए अनेक ज्योतिषी शुक्र और आकर्षण वशीकरण मंत्र जप करने की सलाह देते हैं।

विश्वास में बड़ी शक्ति होती है, ये पत्थर की प्रतिमा में भी ईश्वर का वास करवाने की शक्ति रखता है। मंत्र और तंत्र भी मन के विश्वास पर ही आजमाए जाते हैं लेकिन माना जाता है कि कुछ मंत्र ऐसे भी होते हैं कि उनका प्रभाव होता है और शीघ्रता से होता है। ऐसे ही कुछ मंत्र और उपाय नीचे दिए जा रहे हैं, जो अपने चमत्कारी प्रभाव के कारण आपकी समस्याओं का निवारण करने की सामथ्र्य रखते हैं –

  • यह मंत्र जो किसी व्यक्ति विशेष को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि जिस व्यक्ति को आकर्षित करना हो उसका ध्यान कर 15 दिन तक नित्य इस मंत्र का जाप करें, तो कैसा भी पत्थरदिल प्राणी हो, अवश्य आकर्षित होगा।

– ॐ हुं ॐ हुं ह्रीं।

  • ॐ नमो भगवते श्रीसूर्याय ह्रीं सहस्त्र-किरणाय ऐं अतुल-बल-पराक्रमाय नव-ग्रह-दश-दिक्-पाल-लक्ष्मी-देव-वाय, धर्म-कर्म-सहितायै ‘अमुक’ नाथय नाथय, मोहय मोहय, आकर्षय आकर्षय, दासानुदासं कुरु-कुरु, वश कुरु-कुरु स्वाहा।”

विधि- सुर्यदेव का ध्यान करते हुए इस मन्त्र का प्रतिदिन 8 दिन तक 108 बार जप करने से ‘आकर्षण’ का     कार्य सफल होता है।

 

  • “ऐं पिन्स्थां कलीं काम-पिशाचिनी शिघ्रं ‘अमुक’ ग्राह्य ग्राह्य, कामेन मम रुपेण वश्वैः विदारय विदारय, द्रावय द्रावय, प्रेम-पाशे बन्धय बन्धय, ॐ श्रीं फट्।”

आकर्षण वशीकरण मंत्र  विधि- पहले इस मन्त्र को पहले त्योहार या शुभ समय में 20000 जप करके सिद्ध कर लें। प्रयोग के समय ‘साध्य’ के नाम का स्मरण करते हुए प्रतिदिन 108 बार मन्त्र जपने से ‘आकर्षण’ उत्पन्न हो जाता है।

यह एक सिद्ध वशीकरण प्रयोग हैं। इस मंत्र का प्रयोग करके आप अपने संबंधियों, मित्रों, सहयोगियों या किसी के भी मन में अपने लिए आकर्षण पैदा कर सकते हैं। इस मंत्र को मात्र 500 बार रुद्राक्ष की माला से पूर्व या उत्तर दिशा में लाल रंग के आसन पर बैठकर जपने से आप किसी को भी अपने आकर्षण में बाँध सकते हं। इसे केवल 500 बार जिसका ध्यान कर या जिसकी तस्वीर के सामने जपा जायेगा वे आपके वशीभूत होगा। जब तक कार्य सिद्ध न हो जपते रहिये।

  • प्रभावशाली आकर्षण मंत्र – झां झां झां हां हां हां हें हें

यह एक सिद्ध आकर्षण मंत्र है। इस मंत्र से आप किसी का भी आकर्षण कर सकते हैं। इस मंत्र को मात्र 500 बार रुद्राक्ष की माला से पूर्व या उत्तर दिशा में लाल रंग के आसन पर बैठकर जपने से आप किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर सकतें है। इसे केवल 500 बार जिसका ध्यान कर या जिसकी तस्वीर के सामने जपा जायेगा वे आपके आकर्षण के वश में आ जायेगा। इसके अतिरिक्त प्रतिदिन केवल इसे 500 बार जपा जाए तो आकर्षण सिद्धि प्राप्त होती है ।

  • शाबर मंत्र

मान्यता है कि इस मंत्र के जाप से व्यक्ति में आकर्षण शक्ति और यौन क्षमता में वृद्धि होती है।

ॐ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा।

  • पानी द्वारा आकर्षण मन्त्र

‘‘ ॐ नमो त्रिजट लम्बोदर वद वद अमुकी आकर्षय आकर्षय स्वाहा ’’

विधि – इस मन्त्र को जल पर 108 बार पढ़ फूंके, फिर अपने सिरहाने की तरफ रखकर सो जाये और मध्य रात्रि में उठकर इस पानी को पी ले ऐसा 21 दिन तक करे तो वह स्त्री स्वयं आपके पास चली आएगी, अमुकी के स्थान पर उस स्त्री का नाम लें जिसका आकर्षण करना हैं

  • कामदेव मंत्र

‘‘ऊँ कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात’’ इस मंत्र के जप से दांपत्य जीवन में प्रेम बढ़ता है और सुयोग्य जीवनसाथी प्राप्त होता है। कामदेव का एक शाबर मंत्र है ‘ऊँ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा।’ कहा जाता है कि इस मंत्र के जप से व्यक्ति में आकर्षण बढ़ता है।

  • शुक्र मंत्र

ओम द्राँ द्रीँ द्रौँ सरू शुक्राय नमरू।

आकर्षण के उपाय

यदि आपके जीवनसाथी का व्यवहार ऐसा हो गया हो कि आपको महसूस होने लगा हो कि उनका प्यार आपके प्रति कम या समाप्त हो रहा है, तो किसी शुक्रवार को भगवान कृष्ण को याद करें करते हुए तीन इलायची अपने शरीरी से स्पर्श कराकर अपने पास रख लें। अब शनिवार सुबह इसी इलायची को पीसकर खाने में या चाय में मिलाकर उन्हें पिला दें, ऐसा तीन हफ्ता हर शुक्रवार को करें तो आपको उनके व्यवहार में अंतर स्पष्ट रूप से दिखाई देगा।

किसी को आकर्षित करना हो तो पीली हल्दी, गाय की घी, गौमूत्र, सरसों व पान के रस को मिलाकर एकसाथ पीस लें और फिर इसे शरीर पर लगाएं, इससे स्त्रियां आकर्षित हो जाती हैं।

यदि आपको यह भय सता रहा हो कि कहीं आपका जीवनसाथी आपको छोड़कर न चल दे तो इसके लिए यह टोटका अपनाएं। नारियल, धतूरे के बीज, कपूर को पीसकर इसमें शहद मिला लें। हर रोज इसी लेप से लेकर तिलक करें, वह आपको छोड़कर कभी नहीं जाएंगे।

केला में गोरोचन मिलाकर लेप बनाएं। इस लेप को सिर पर लगाएं। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से व्यक्ति में आकर्षण शक्ति आ जाती है। नारियल, धतूरे के बीज, कपूर को पीस लें। इसमें शहद मिलाएं। नियमित इसका तिलक करने से जिसे आप प्यार करते हैं वह आपको छोड़कर नहीं जाता है।

पति की रूचि पत्नी में कम हो गयी हो तो दोनों साथ भोजन करें और भोजन के समय चुपके से पत्नी पति के खाने में अपनी थाली से थोड़ा भोजन रख दे। इससे पति फिर से पत्नी में रूचि लेने लगता है।

 

[Total: 121   Average: 4.8/5]